Gastric problem – Pait Mein Gas Ki 8 रामबाण ilaj in Hindi

क्या आप बदहजमी या Pait mein gas की तकलीफ से परेशां रहते है ? और क्या आप को इसी वजह से कुछ भी खाने पर antacid लेनी पड़ती है ? तो चलिए जान लेते है बदहजमी या pait mein gas ka ilaj क्या है।

Gestik problem - Pait mein gas ki 8 रामबाण ilaj

Pait mein gas के कारन ( stomach gas cause)

जब आप के पेट के अन्दर मौजूद gastric glands में acid जमा होने की मात्रा ज्यादा हो जाती है तब आपको acidity ( बदहजमी ) की समस्या हो सकती है।

ज्यादा वक़्त तक खाली पेट रहना, भोजन लेने के बिच का वक़्त बहुत लंबा होना, या ज्यादा चाये, coffee पीने से आपके शारीर में acids की मात्रा बड सकती है और Pait mein gas के कारन हो सकती है।

acidity ( बदहजमी) के कारन आपके सीने में जलन , और Pait mein gas की मात्रा बड जाने पर पेट भारी लग सकता है। जिससे आपको कोई काम करने की इच्छा नहीं होती और शारीर अस्वस्थ लगने लगता है।

pait mein gas ka ilaj

इसके अलावा ज्यादा मसाले दार भोजन लेना, तली हुई चीजे ज्यादा खाना, खाना सही वक़्त पर ना लेना, ज्यादा शराब पीना, smoking करना, stress होना, खाने के तुरंत बाद सो जाना, या सोने से पहले ही कुछ snacks खाना, ये सब भी acidity Pait mein gas के कारन हो सकते है।

Pait mein gas के लक्षण (stomach gas symptoms)

acidity होने पर आपको कही लक्षण दिखने लगेंगे जैसे सीने में जलन, हिचकी आना, उलटी लगना, खट्टी ढकार आना, gas के वजह से पेट भारी लगना।

ठंडे दूध या ice cream से pait mein gas ka ilaj

ठंडे दूध पीने से आपके शारीर में मौजूद acid की मात्रा नियंत्रण में रहती है और आपको acidity या Pait mein gas होने से राहत दे सकती है। तो हर रोज एक गिलास ठंडा दूध पीये।

ice cream

और अगर आपको सर्दी जुखाम जैसी बीमारी नहीं है तो acidity कम करने के लिए icecream भी खा सकते है।

Pait mein gas ki 7 problem solution

तो जब भी आप इन परेशानिओं से गुजरते है तो आप इससे जल्द छुटकारा पाना चाहते है। तो आज हम आपके लिए बहुत ही आसान और घरेलु नुस्के लाये है जिससे आप acidity या Pait mein gas होने से जल्द छुटकारा पा सकते है।

शराब ना पीयें और smoking ना करे

शराब पीना आपके पेट के लिए बिलकुल ठीक नहीं है। इसी कारन acidity या Pait mein gas हो सकती है। और smoking करने से भी शरीर में एसिड की मात्रा बड जाती है।

जिस कारन acidity की समस्या होती है। इसलिए शराब पीना या smoking ना करना Pait mein gas का इलाज है।

Balanced diet से pait mein gas ka ilaj करे

मसालेदार और तली हुई चीजे ना खाएं जिससे acidity या Pait mein gas की मात्रा बड सकती है। acidity रोक ने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पियें।

और हर रोज खाने के साथ साथ कुछ excercises भी जरुर करे ताकि आपकी हजम करने की छमता ठीक रहे।

नींद जरुर पूरा करे

नींद पूरा ना होना भी acidity या gas का कारन हो सकता है। इसीलिए हर रोज कम से कम ७ घंटा सोना जरुरी है।

सेब या केला खाएं

केला

केले में प्राकृतिक रूप से antacids मौजूद होते है , जो acidity या Pait mein gas के लिए बहुत ही फायदेमं साबित हो सकता है। और रात को सो ने से पहले सेब खाने पर आपको acidity के कारन होने वाली सीने की जलन से राहत मिल सकती है।

तुलसी के पत्ते से पेट में gas का इलाज

तुलसी के पत्तो में शारीर में acid की मात्रा बड जाने को रोकनी की उपादान मौजूद होती है। तो जब भी आपको acidity की समस्या हो तो ४ से ५ तुलसी के पत्तो को चबाके खाएं।

आप ३ स्व ४ तुलसी के पत्तो को गरम पानी में उबाल के शहेद के साथ भी खा सकते है। इससे आपको acidity या Pait mein gas से राहत मिलेगी।

Buttermilk से पेट में gas का इलाज

buttermilk में lactic acid नमक उपादान मौजूद होती है जो आपके शरीर में acid की मात्रा को नियंत्रण करती है और आपको Pait mein gas या acidity से राहत देती है।

Buttermilk में मौजूद calcium एसिड को बन ने से रोकती है। जल्दी परिणाम पाने के लिए buttermilk में २ से ३ काली मिर्च मिलाके पीयें। इसके अलावा acidity या Pait mein gas को खत्म करने के लिए आप हर रोज २ से ३ काली मिर्च चबाकर भी खा सकते है।

नारियल का पानी

नारियल का पानी

नारियल पानी एक अच्छा pait mein gas ka ilaj है।नारियल पानी पीने से शरीर में पानी की मात्रा नियंत्रण में रहती है जिससे शरीर में acid नहीं बन पाती।

इससे शारीर के ph acidic level भी ठीक रहती है। तो acidity या Pait mein gas होने पर नारियल पानी जरुर पीयें।

तो ये था आपके लिए acidity या Pait mein gas को खत्म करने के आसान और घरेलु तरीके। इन्हें जरुर आजमाए और gas या acidity से मुक्त हो कर एक स्वस्थ जिंदगी जीयें।

Image License : pexels.compixabay.com under Creative Commons License

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*